English മലയാളം

Blog

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज अपने भूटानी समकक्ष लोटे शेरिंग के साथ दूसरे चरण के तहत रुपे कार्ड (RuPay Card) का शुभारंभ किया। इसके जरिए भूटान के नागरिक भारत में रुपे नेटवर्क का लाभ उठा सकेंगे। शुक्रवार को प्रधानमंत्री मोदी और शेरिंग ने संयुक्त रूप से वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से इस कार्ड को लॉन्च किया।

2019 में हुआ था पहले चरण के रुपे कार्ड का शुभारंभ
इससे पहले साल 2019 में पीएम नरेंद्र मोदी ने भूटान यात्रा के दौरान पहले चरण के रुपे कार्ड का शुभारंभ किया था। पहले चरण के तहत भारत के नागरिक भूटान के एटीएम और प्वाइंट ऑफ सेल मशीन (PoS) पर लेनदेन के लिए सक्षम हुए थे।

 

Also read:  शेयर बाजार में भारी बिकवाली, 598 अंक लुढ़ककर 48000 से नीचे कारोबार कर रहा सेंसेक्स

इस संदर्भ में विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि पहले चरण में भारत के नागरिक पूरे भूटान में रुपे कार्ड का इस्तेमाल एटीएम नेटवर्क के उपयोग के लिए कर सकते थे, जबकि दूसरे चरण में भूटानी नागरिक भारत में रुपे कार्ड का इस्तेमाल कर एटीएम नेटवर्क के उपयोग कर सकेंगे।

नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से अपने भाषण में दोनों देशों के बीच अनेक क्षेत्रों में गहरे सहयोग के बारे में बात की। उन्होंने अंतरिक्ष में भूटानी उपग्रह के प्रक्षेपण के लिए इसरो की तैयारी, तीसरे अंतरराष्ट्रीय इंटरनेट गेटवे से संबंधित बीएसएनएल तथा भूटान के बीच समझौते आदि का जिक्र किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि कोविड-19 महामारी के कठिन समय में भारत भूटान के साथ मजबूती से खड़ा है और पड़ोसी देश की आवश्यकताओं को पूरा करना हमेशा उसकी शीर्ष प्राथमिकता रहेगी।

Also read:  एपल को पुराने iPhone स्लो करना पड़ा भारी, देना होगा अरबों रुपये का जुर्माना

क्या है रुपे कार्ड?
यह एक घरेलू प्लास्टिक कार्ड है, जिसे नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) ने लॉन्च किया था। इसका उद्देश्य पेमेंट सिस्टम का एकीकरण करना है। एसबीआई जैसे बड़े बैंक से लेकर देश के सभी प्रमुख बैंकों ने रुपे डेबिट कार्ड जारी किए हैं। संयुक्त अरब अमीरात पश्चिम एशिया का पहला देश बना था, जिसने इलेक्ट्रॉनिक भुगतान की भारतीय प्रणाली को अपनाया था।

रुपे कार्ड भारत में डेबिट और क्रेडिट कार्ड से भुगतान का नेटवर्क है और इसका एटीएम, पीओएस उपकरणों और ई-कॉमर्स वेबसाइटों पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत और भूटान के बीच एक विशेष साझेदारी है जिसका आधार साझा समझ और सम्मान, साझा सांस्कृतिक विरासत और दोनों देशों के लोगों के बीच मजबूत बंधन हैं।

Also read:  सीपीसीबी ने कोक, पेप्सिको, बिसलेरी, आदि पर लगाया 72 करोड़ रुपये का जुर्माना

महामारी से मजबूत होकर निकलेगा भारत- शेरिंग 
इस दौरान भूटान के पीएम लोटे शेरिंग ने महामारी से निपटने के लिए नरेंद्र मोदी के घर से नेतृत्व करने के लिए बहुत प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि, ‘मुझे यकीन है कि भारत महामारी से बहुत मजबूत होकर निकलेगा। भारत टीके विकसित करने में अग्रणी है और यह हम सभी के लिए आशा का स्रोत है। आगे उन्होंने कहा कि भूटान के लिए वैक्सीन उपलब्ध कराने के आश्वासन के लिए हम आपके और आपके सरकार के आभारी हैं।