English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-07-14 194510

नारनौल में बुधवार देर रात एक हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई। नारनौल के सिंघाना रोड पर बुधवार रात तेज रफ्तार से आ रही कार अनियंत्रित होकर पेड़ से टकरा गई। सभी जवान गांव बापड़ौली स्थित अपने साथी के पोते के कुआं पूजन में शामिल होने के बाद लौट रहे थे।

सूचना पर पहुंची पुलिस ने क्षतिग्रस्त कार से शवों को निकलाकर सामान्य अस्पताल नारनौल पहुंचाया जहां गुरुवार को पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिए गए। पुलिस अधीक्षक विक्रांत भूषण ने भी गुरुवार को घटनास्थल का मुआयना किया। दिल्ली आर्मी इलेक्ट्रिकल मैकेनिकल इंजीनियरिंग शाखा से आए मेजर राहुल रैना और सुबेदार सुखबीर सिंह ने अस्पताल पहुंचकर परिजनों को सांत्वना दी और घटना स्थल का निरीक्षण किया। मेजर ने बताया कि सभी का सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा।

हजारीलाल (56) गांव तुर्कापुर पटौदी, गौतम सैनी (35) पुरानी सराय नारनौल, हंसराज (55) गांव सैदपुर सोनीपत, जय भगवान (45) गांव तयोथा कैथल तथा ओमप्रकाश (59) निवासी तिलक नगर, नजफगढ़ दिल्ली आर्मी के जवान थे। ये दिल्ली कैंट में स्थित आर्मी वर्कशाप में काम करते थे। सभी 13 जुलाई को गांव बापड़ौली में अपने साथी प्रेमचंद के पोते के कुआं पूजन में सम्मिलित होने गए थे। सभी एक ही कार में सवार होकर बापड़ौली पहुंचे थे।

Also read:  एचएम किंग, एचआरएच क्राउन प्रिंस और प्रधान मंत्री ने एनबीआर सीईओ को बधाई दी

कुआं पूजन में शामिल होने के बाद सभी बुधवार की रात लौट रहे थे। रात 11 बजे उनकी तेज रफ्तार कार नेशनल हाईवे-11 सिंघाना-नारनौल रोड पर स्थित रघुनाथपुरा के पास पहुंचे थे कि उनकी कार बेकाबू हो गई और पेड़ से जा टकराई। कार की रफ्तार इतनी तेज थी कि मोड़ पर टीले से टकराने के बाद पांच फूट उछल कर 20 फीट की दूरी पर स्थित पेड़ से टकरा गई।

Also read:  राहुल ने बीजेपी पर साधा निशाना कहा उत्तराखंड ने देश को सबसे ज्यादा खून दिया

हादसा इतना जबरदस्त था आगे की सीटों पर दोनों गुब्बारे खुलने के बाद भी कोई सुरक्षित नहीं बचा। हादसे के दौरान कार क्षतिग्रस्त हो गई और इंजन में भी आग लग गई। गंभीर रूप से घायल कार सवार उक्त सभी पांच जवानों की मौके पर मौत हो गई। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शवों को काफी मशक्कत के बाद बाहर निकाला और उनको अस्पताल पहुंचाया। पुलिस ने गुरुवार को शवों का पोस्टमार्टम कर परिजनों को सौंप दिया।

रघुनाथपुरा के पास मोड़ बना हादसे का कारण

एनएच-11 सिंघाना-नारनौल रोड पर गांव रघुनाथपुरा के पास बाईपास का पुल बना है। इस पुल के नीचे से ही एनएच 11 गुजर रहा है। पुल से 100 मीटर आगे नारनौल की ओर चलकर फोरलेन खत्म हो जाती है और आगे सिंगल रोड बनी है। जहां फोरलेन से सिंगल रोड बनी है, वहीं पर हलका मोड़ है। इसी मोड़ पर मिट्टी टिला है।

Also read:  पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने मान सरकार पर साधा निशाना, कहा- लोगों की जिंदगी और संपत्ति की रक्षा करने में मान सरकार विफल रही

फोरलेन से सिंगल में परिवर्तित होने की वजह से तेज रफ्तार गाड़ी मुड़ नहीं पाती और वह सामने टीले से टकरा जाती है। इस मोड़ पर न तो ट्रैफिक लाइट है और न ही कोई निर्देशन बोर्ड लगा है। पांच-छह महीने पहले भी एक टूरिस्ट बस यहां पलट गई थी जिसमें यात्रियों को मामूली चोटें आईं थीं।

भीषण हादसे में आर्मी टेक्निकल स्टाफ के पांच जवानों की मौत हो गई। इनमें चार हरियाणा और एक जवान दिल्ली के निवासी थे। मैंने मौके पर जाकर मौका मुआयना भी किया है। इस मोड़ पर हादसों की पुनरावृत्ति न हो, इसके लिए संबंधित एजेंसी या विभाग से बातचीत कर इसका समाधान करवाया जाएगा। – विक्रांत भूषण, पुलिस अधीक्षक महेंद्रगढ़।