English മലയാളം

Blog

पटना: 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को बिहार विधानसभा चुनावों का असली आगाज कर दिया है. पीएम अपनी पहली चुनावी रैली के लिए बिहार पहुंचे हुए हैं. पीएम ने यहां अपने भाषण की शुरुआत भोजपुरी में की. उन्होंने कहा कि ‘बिहार धान के कटोरा कहल जाए. हम गौरवशाली धरती के हम नमन करतानी. मां मुंडेश्वरी, ताराचंडी माता के रउवा सबके अभिनंदन करतानी.’ पीएम ने अपने भाषण में कोविड-19 का जिक्र करते हुए कहा कि नीतीश सरकार ने कोविड-19 को लेकर तुरंत जरूरी कदम उठाए, वर्ना स्थिति और खराब हुई होती.

पीएम ने कहा कि वो बिहार के लोगों को बधाई देना चाहते हैं कि उन्होंने इस आपदा का डटकर सामना किया. उन्होंने कहा कि ‘कोरोना से बचने के लिए तेजी से जो फैसले लिए गए हैं, जिस तरह बिहार के लोगों ने काम किया, नीतीश जी के लोगों ने, NDA सरकार ने काम किया उसके नतीजे आज दिख रहे हैं.’ उन्होंने कहा कि ‘अगर बिहार में तेजी से काम न हुआ होता तो ये महामारी न जाने कितने साथियों की, हमारे परिवारजनों की जान ले लेती, कितना बड़ा हाहाकार मचता, इसकी कोई कल्पना नहीं कर सकता.’

Also read:  पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को लगी चोट ,2 दिनों के लिए अस्पताल में ही रहेंगी

पीएम ने चुनावी नतीजों को लेकर कहा कि बिहार ने इन चुनावों में अपना साफ संदेश दे दिया है. उन्होंने कहा, ‘बिहार के लोगों की एक और अच्छी बात है- उनकी स्पष्टता. बिहार के लोग भ्रम में नहीं रहते. बिहार के लोगों ने चुनाव के पहले ही अपना स्पष्ट संदेश सुना दिया है. जितने सर्वे और रिपोर्ट सामने आ रहे हैं, उनमें यही सामने आ रहा है कि बिहार में एनडीए सरकार बनने जा रही है.’ पीएम ने कहा कि ऐसा होता कि चुनाव आते ही एक-दो चेहरों को बड़ा बनाकर पेश किया जाता है लेकिन इसका कोई असर नहीं पड़ेगा. बिहार के लोग ऐसी कोशिशों को खुद नाकाम कर रहे हैं. पीएम ने कहा, ‘बिहार के लोगों ने मन बना लिया है, ठान लिया है कि जिनका इतिहास बिहार को बीमारू बनाने का है, उन्हें आसपास भी नहीं फटकने देंगे.’

 

Also read:  झारखंड: लालू प्रसाद यादव की बिगड़ी तबीयत, पड़ सकती है डायलिसिस की जरूरत

पीएम ने कहा, ‘भारत के सम्मान बा बिहार. भारत के स्वाभिमान बा बिहार. भारत के संस्कार बा बिहार. संपूर्ण क्रांति के शंखनाद बा बिहार. आत्मनिर्भर भारत के परचम बा बिहार.’ पीएम ने यहां गलवान घाटी में हुई झड़प में बिहार के जवानों के जान गंवाने का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि ‘बिहार के सपूत गलवान घाटी में तिरंगा खातिर शहीद हो गइले, लेकिन भारत माता के शीश न झुके दिहले. हम उनके चरणन में शीश झुकावतानी.’

पीएम ने बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल पर हमला करते हुए कहा कि ‘लालटेन क जमाना गइल. पिछले छह सालों में बिजली की खपत बढ़ी. अब वो जमाना गया कि अंधेरा होते ही सबकुछ बंद हो जाता था. बिहार के लोग भूल नहीं सकते वो दिन जब सूरज ढलते का मतलब होता था, सब कुछ बंद हो जाना, ठप्प पड़ जाना. आज बिजली है, सड़के हैं, लाइटें हैं और सबसे बड़ी बात वो माहौल है जिसमें राज्य का सामान्य नागरिक बिना डरे रह सकता है, जी सकता है.’ पीएम ने विपक्ष पर हमला करते हुए कहा कि ‘जिन लोगों ने सरकारी नियुक्तियों के लिए बिहार के नौजवानों से लाखों की रिश्वत खाई, वो फिर बढ़ते हुए बिहार को ललचाई नजरों से देख रहे हैं. आज बिहार में पीढ़ी भले बदल गई हो, लेकिन बिहार के नौजवानों को ये याद रखना है कि बिहार को इतनी मुश्किलों में डालने वाले कौन थे?’