English മലയാളം

Blog

मथुरा के नंदगांव स्थित विश्व प्रसिद्ध नंदबाबा मंदिर में नमाज पढ़ने का मामला तूल पकड़ने के बाद सोमवार को उत्तर प्रदेश पुलिस ने फैजल खान को गिरफ्तार कर लिया है। मथुरा के थाना बरसाना की पुलिस ने फैजल को गिरफ्तार किया है। पुलिस अब मंदिर में नमाज अदा करने के दूसरे आरोपी चांद मोहम्मद और इनके दो साथियों आलोक और नीलेश की गिरफ्तार के लिए प्रयास कर रही है।

एसएसपी डॉ. गौरव ग्रोवर ने बताया कि रविवार की रात नंदबाबा मंदिर के तीन सेवायतों कृष्ण मुरारी उर्फ कान्हा, मुकेश गोस्वामी और शिवहरी ने दिल्ली निवासी फैजल खान, चांद मोहम्मद, आलोक रतन, नीलेश गुप्ता के खिलाफ धारा 135ए, 295, 505 में मुकदमा दर्ज कराया था। चारों खोदाई खिदमतगार संस्था के सदस्य हैं।

Also read:  कर्नाटकः विधान परिषद में बवाल, सभापति की कुर्सी पर बैठे डिप्टी चेयरमैन को बलपूर्वक उठाया

इन पर सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने के उद्देश्य से मंदिर परिसर में नमाज अदा करने का आरोप लगाया है। साथ ही इसके पीछे विदेशी मुस्लिम संगठन तथा विदेशी फंडिंग की आशंका जताई थी। सोमवार की शाम को थाना बरसाना की पुलिस ने आरोपी फैजल खान को दिल्ली के ओखला से गिरफ्तार किया है। पुलिस अन्य आरोपियों की तलाश कर रही है।

बता दें कि 29 अक्तूबर को दोपहर करीब साढ़े 12 बजे दिल्ली निवासी फैजल खान, मोहम्मद चांद अपने साथियों आलोक रतन और नीलेश गुप्ता के साथ नंदबाबा मंदिर पहुंचे थे। इस दौरान चारों ने सेवायत कृष्ण मुरारी गोस्वामी उर्फ कान्हा से भेंट की। चारों ने नंदबाबा मंदिर में दर्शन किए और प्रसाद ग्रहण किया।

Also read:  हाथरस कांड में अगली सुनवाई 25 नवंबर को, सोमवार को एडीजी कानून-व्यवस्था कोर्ट में पेश हुए

फैजल खान ने सेवायत कान्हा से श्रीराम कृष्ण एवं सनातन धर्म के विषय में चर्चा की। आरोप है कि फैजल खान और मोहम्मद चांद ने सेवायतों की बिना अनुमति और जानकारी के मंदिर परिसर में नमाज अदा की। साथियों से फोटो खिंचवाकर इसे सोशल मीडिया पर डाल दिया था। इस पर सेवायतों ने कानूनी कार्रवाई की मांग की थी।

रविवार को देर शाम को मंदिर के सेवायतों ने थाना बरसाना में चार युवकों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। सेवायतों ने नमाज अदा करने वाले युवकों के संबंध विदेशी संगठनों से होने की आशंका जताई है। साथ ही विदेशी फंडिंग की जांच की भी मांग की गई है। सोमवार को सेवायतों ने गंगाजल से मंदिर परिसर को धुलवाया।

Also read:  ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन मिलने के बाद स्वास्थ्य मंत्रालय ने ज्वाइंट मॉनिटरिंग ग्रुप की बैठक बुलाई

फेसबुक पर डाला था फोटो
मंदिर में जौहर की नमाज पढ़ने की फोटो फैजल ने अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट की थी। इसके बाद यह वायरल हुई। तहरीर देने वाले सेवायतों ने कहा कि उनका विरोध मंदिर में आने से नहीं बल्कि गुपचुप नमाज पढ़ने और इसकी फोटो वायरल करने से है। क्योंकि इसके लिए न तो उन्होंने अनुमति ली और न ही इसकी अनुमति उन्हें दी गई थी।