English മലയാളം

Blog

मुंबई/नई दिल्ली: महाराष्ट्र के भंडारा जिला अस्पताल में शुक्रवार देर रात विशेष नवजात देखरेख इकाई में आग लगने से 10 नवजात बच्चों की मौत हो गई. डॉक्टरों ने यह जानकारी दी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने महाराष्ट्र अस्पताल अग्निकांड पर दु:ख व्यक्त किया.​ एक डॉक्टर ने बताया कि नवजात बच्चों की उम्र एक महीने से तीन महीने के बीच थी. जिला सिविल सर्जन प्रमोद खंडाते ने बताया कि भंडारा जिला अस्पताल में शुक्रवार देर रात एक बजकर 30 मिनट के आसपास आग लग गई. इकाई में 17 बच्चे थे, जिनमें से सात को बचा लिया गया.

एक डॉक्टर ने बताया कि सबसे पहले एक नर्स ने अस्पताल के शिशु देखभाल विभाग से धुआं उठते देखा, जिसके बाद डॉक्टरों और अन्य कर्मचारियों को खबर की गई. इकाई के ‘इनबाउंड वार्ड’ से सात बच्चों को दमकल कर्मियों ने सुरक्षित बाहर निकाल लिया लेकिन 10 बच्चों को बचाया नहीं जा सका.

Also read:  गुजरात स्थानीय निकाय चुनाव : शुरुआती रुझानों में 81 नगर निकायों में से अधिकतर पर बीजेपी को बढ़त मिली

डॉकटर खंडाते ने बताया कि बच्चों को जिस वार्ड में रखा जाता है, वहां लगातार ऑक्सीजन की आपूर्ति की जरूरत होती है. उन्होंने बताया, ‘‘वहां आग बुझाने वाले उपकरण थे और कर्मियों ने उनसे आग बुझाने की कोशिश की. वहां काफी धुआं हो रहा था.”आग का शिकार होने वाले बच्चों के माता-पिता को जानकारी दे दी गई है. बचाए गए सात बच्चों को दूसरे वार्ड में भेज दिया गया है.

अभी तक आग लगने के पीछे की वजह का पता नहीं चल पाया है, लेकिन शॉर्ट सर्किट होने का संदेह है. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भंडारा जिला अस्पताल में आग लगने की घटना में नवजात बच्चों की मौत पर दु:ख व्यक्त करते हुए मामले की जांच के आदेश दिए हैं. मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक, घटना की जानकारी मिलने के तुरंत बाद ठाकरे ने स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे से बातचीत की. उन्होंने जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक से बातचीत करके उन्हें जांच करने के लिए कहा है.

Also read:  Coronavirus India: पिछले 24 घंटे में कोरोना के 30005 नए मामले, संक्रमणमुक्त मरीजों की संख्या 93 लाख के पार

पीएम मोदी ने ट्वीट किया, ‘महाराष्ट्र के भंडारा में दिल दहला देने वाला हादसा, जहां हमने अनमोल मासूमों को खो दिया. मेरी सहानुभूति सभी शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं. आशा करता हूं कि घायल जल्द से जल्द ठीक हो जाएं.’

महाराष्ट्र के गृह मंत्री नागपुर के लिए रवाना हो गए हैं. वह भंडारा पहुंचकर स्थिति का जायजा लेंगे. गृह मंत्री ने पुलिस अधीक्षक से बात करके प्राथमिक रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा है.

Also read:  Coronavirus India Updates: पिछले 24 घंटे में सामने आए 36594 नए मामले, 540 की मौत

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने मृतक बच्चों के परिजनों को 5-5 लाख रुपये मुआवजा दिए जाने की घोषणा की है. वह शाम 5 बजे तक भंडारा अस्पताल का दौरा करेंगे.राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि यह दुखद घटना है. हम पीड़ित परिवारों के साथ हैं. मैं सरकार से इस मामले में जांच और आरोपियों को सजा देने का आग्रह करता हूं.

भंडारा के जिला कलेक्टर संदीप कदम ने कहा कि आग लगने की वजह से 10 बच्चों की मौत हुई. हम सात बच्चों की जान बचा सके हैं. आग के पीछे के कारणों का पता लगाने के लिए तकनीकी कमेटी गठित की जाएगी.