English മലയാളം

Blog

मुंबई: 

महाराष्ट्र के कई शहरों में जनता की आवाजाही पर अंकुश लगने के साथ राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे (Maharashtra Health Minister Rajesh Tope) ने आगाह किया है कि कोरोना वास्तव में खतरनाक स्थिति में पहुंच रहा है. टोपे ने कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री, जिलाधिकारियों और पुलिस आय़ुक्तों से चर्चा के बाद कड़े कदमों की घोषणा की जा सकती है.

उन्होंने लॉकडाउन (Lockdown) के शब्द का भी इस्तेमाल इस सतर्कता के साथ किया कि जरूरत पड़ने पर कुछ जिलों में यह कदम उठाया जा सकता है. स्वास्थ्य मंत्री ने NDTV से कहा कि जिलाधिकारियों को लॉकडाउन लगाने का अधिकार दिया जा सकता है.टोपे ने कहा कि लोगों को नियमों का पालन करना होगा. नियमों का पालन न करने वालों पर जुर्माना बढ़ाना होगा.

Also read:  हमारे देश का नाम प्राचीन काल से भारत ,इसे बोलने, लिखने और कहने में हर जगह लाना होगा, आज दुनिया को हमारी जरूरत-मोहन भागवत

 

महाराष्ट्र (Maharashtra) उन राज्यों में से है, जहां पिछले कुछ हफ्तों में संक्रमण बेहद तेजी से बढ़ रहा है, जबकि लंबे समय तक इसमें गिरावट रही थी. लेकिन कोरोना काल के पूरे एक साल में भी महाराष्ट्र में करीब पूरे वक्त तक मामलों में आगे रहा है. महाराष्ट्र में 11,141 नए मामले सामने आए हैं और 38 मौतें हुई हैं. जनवरी 2020 में संक्रमण की शुरुआत के बाद कुल मामलों की संख्या 22.2 लाख हो गई है.

Also read:  देश में लगातार पांचवें दिन कोविड-19 संक्रमण के मामलों में हुई बढ़ोतरी 24 घंटे में देश में 18,711 नए मामले दर्ज हुए

जनता को जिम्मेदार ठहराए जाने के साथ राजेश टोपे ने सरकार की ढिलाई की बात भी मानी. टोपे ने कहा कि लोगों ने कोरोना को हल्के में ले लिया है, किसी के मन में कोई गंभीरता नहीं है. नियमों के पालन को लेकर सरकारी मशीनरी में भी थोड़ी बहुत ढिलाई थी. महाराष्ट्र के कई जिलों में हालिया हफ्तों में नाइट कर्फ्यू लागू किया गया है और स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए हैं.