English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-08-18 103232

ममता बनर्जी के गढ़ दक्षिण कोलकाता के हाजरा इलाके में लगे पोस्टर पर सियासत शुरू हो गई है। सबसे पहले यह सममझना जरूरी है कि आखिर पोस्टर में क्या था। दरअसल जो पोस्टर लगा था उस पर सिर्फ ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी की तस्वीर थी और इसके साथ ही लिखा था कि अगले 6 महीने में नई टीएमसी।

 

इस पोस्टर के सामने आने के बाद बीजेपी ने कहा कि अब साफ है कि लोगों को भरोसा ममता बनर्जी पर नहीं रहा। हालांकि टीएमसी के नेताओं ने कहा कि यह किसी अतिउत्साही कार्यकर्ता का काम हो सकता है। लेकिन नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी ने कहा कि 6 महीने तो दूर इस सरकार की आखिरी तारीख दिसंबर का महीना है।

Also read:  तमिलनाडु में कल्लाकुरिचि के निकट एक छात्रा की मौत के बाद गुस्साए लोगों ने दोषियों को गिरफ्तार करने की मांग की, गुस्साए लोगों ने की तोड़फोड़, फूंकी गाड़ी

ईडी और सीबीआई कर रहे हैं अपना काम

प्रवर्तन निदेशालय और केंद्रीय जांच ब्यूरो अपना काम कर रहे हैं। टीएमसी छह महीने भी नहीं चलेगी। दिसंबर उनकी समय सीमा है,दिलचस्प बात यह है कि पोस्टरों में टीएमसी सुप्रीमो और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तस्वीर नहीं थी, केवल अभिषेक बनर्जी थे जो पोस्टरों पर थे, “अगले 6 महीनों में, एक नई टीएमसी सामने आएगी। जैसा कि लोग चाहते थे। ये पोस्टर ममता बनर्जी के गढ़ माने जाने वाले दक्षिण कोलकाता के हाजरा इलाके में लगाए गए थे।

पोस्टर से ममता बनर्जी गायब

पोस्टरों पर “नई तृणमूल” और ममता बनर्जी की तस्वीर गायब होने के साथ एक चर्चा पैदा हो गई है।पोस्टरों पर तंज कसते हुए भाजपा ने कहा कि लोगों का ममता बनर्जी से विश्वास उठ गया है। “कुछ पोस्टर यह कहते हुए दिखाई दिए कि टीएमसी में एक नया चेहरा आ रहा है। क्या इसका मतलब यह है कि लोगों को अब ममता बनर्जी पर भरोसा नहीं है और टीएमसी को एक नए चेहरे की जरूरत है? लोग टीएमसी की लूट के खिलाफ हैं। पार्टी के दिन गिने जा रहे हैं, “पश्चिम बंगाल भाजपा के प्रवक्ता समिक भट्टाचार्य ने कहा।

Also read:  सीएम योगी के सामने ताल ठोकेंगे चंद्र शेखर आजाद, मुकाबला होगा रोमांचक

टीएमसी के कई दिग्गज इस समय मुश्किल में

केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने पोस्टरों को बंगाल की सत्ताधारी पार्टी द्वारा अपने कुछ शीर्ष नेताओं की गिरफ्तारी के बाद भ्रष्टाचार के आरोपों से ध्यान हटाने के लिए एक हताश प्रयास कहा। विशेष रूप से, सीबीआई ने पिछले हफ्ते प्रभावशाली टीएमसी बीरभूम जिला अध्यक्ष अनुब्रत मंडल को बोलपुर में उनके आवास से पशु तस्करी घोटाले की जांच में कथित रूप से सहयोग नहीं करने के आरोप में गिरफ्तार किया था।इससे पहले, पार्थ चटर्जी, जिन्हें अब पार्टी ने निलंबित कर दिया है, को 23 जुलाई को ईडी ने स्कूल भर्ती घोटाले के सिलसिले में गिरफ्तार किया था।

Also read:  'आम आदमी पार्टी के दफ्तर पर पुलिस द्वारा छापेमारी की खबर सामने आई , अहमदाबाद पुलिस ने आप नेता के दावे को किया खारिज