English മലയാളം

Blog

Screenshot 2021-12-24 102014

इत्र कारोबारी के घर छापेमारी में अभी तक 150 करोड़ रुपये की कर चोरी के सुबूत हाथ लगे हैं। मुखौटा कंपनियों के जरिये 100 करोड़ रुपये से अधिक का लोन लेने की भी बात सामने आई है। इत्र कारोबारी पीयूष जैन मूलरूप से कन्नौज के छिपत्ती के रहने वाले हैं।

 

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 (UP Vidhansabha Chunav 2022) से पहले आईटी विभाग, ईडी और जीएसटी की टीमें सक्रिय हैं। गुरुवार को आयकर विभाग की टीम ने कन्नौज के बड़े इत्र कारोबारी पीयूष जैन (Piyush jain) के आवास और ठिकानों पर छापेमारी की।

Also read:  क्‍या समाजवादी पार्टी के सहयोगी दल राष्ट्रीय लोकदल के अध्‍यक्ष जयंत चौधरी खिचड़ी, पुलाव और बिरयानी का चावल छोड़कर खीर खायेंगे?

समाजवादी इत्र को लॉन्च करने में अहम भूमिका निभाने वाले कन्नौज के कारोबारी पीयूष जैन के मुंबई, कन्नौज और कानपुर के ठिकानों पर गुरुवार सुबह इनकम टैक्स ने छापा मारा। तीनों जगह एक साथ शुरू हुई कार्रवाई के दो-तीन तक चलने की उम्मीद है।

Also read:  राष्ट्रपति कोविंद दो कैरिबियाई देशों की यात्रा पर, राष्ट्रपति कोविंद के स्वागत में खास ब्लेजर पहनकर पहुंचे सेंट विंसेंट के प्रधानमंत्री

शेल कंपनियों के मिले मिले दस्तावेज
सूत्रों के अनुसार, इनकम टैक्स को टैक्स चोरी के अलावा शेल कंपनियां बनाकर मोटी-रकम इधर-उधर करने के दस्तावेज मिले हैं। पीयूष जैन अखिलेश यादव के करीबी बताए जाते हैं।

मुंबई में भी रहता है परिवार

कन्नौज के छपट्टी मोहल्ले के होली चौक के मूल निवासी पीयूष जैन इत्र के बड़े कारोबारी हैं। उनका इत्र एक्सपोर्ट भी किया जाता है। कानपुर और मुंबई में भी पीयूष के परिवार के काफी लोग रहते हैं। साथ ही दफ्तर भी हैं।