English മലയാളം

Blog

Screenshot 2023-04-28 151449

सत्यपाल मलिक ने जब से मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला है, तब से उनकी मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। सीबीआई ने रिलायंस जनरल इंश्योरेंस से जुड़े कथित बीमा घोटाले में जांच तेज कर दी है। इसके तहत सीबीआई की टीम शुक्रवार को उनके घर पहुंची।

आरोप है कि जब सत्यपाल मलिक जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल थे, तो एक तथाकथित बीमा घोटाला हुआ था। जिसकी जांच सीबीआई कर रही है। इस मामले में उनके बयान दर्ज करने और अन्य जानकारी जुटाने के लिए सीबीआई उनके दिल्ली स्थित घर पहुंची है।

Also read:  राजीव कुमार ने ली मुख्य निर्वाचन आयुक्त की सपत, राष्ट्रपति और उप-राष्ट्रपति का चुनाव कराने की होगी पहली जिम्मेदारी 

ऐसे समझें पूरा मामला

साल 2018 में मलिक जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल थे। वहां पर सरकार नहीं थी, ऐसे में शासन का सारा कामकाज उन्हीं के जिम्मे था। उस वक्त राज्य में 3.5 लाख कर्मचारियों को बीमा कवर देने के लिए एक योजना चल रही थी, लेकिन मलिक ने उसे रद्द कर दिया।

मलिक का दावा था कि राज्य के कर्मचारियों को ये योजना पसंद नहीं आ रही। उसमें उनको धोखाधड़ी का भी शक है। इसके बाद उन्होंने दावा किया कि दो फाइलों की मंजूरी के लिए उनको 300 करोड़ रुपये के घूस की पेशकश की गई थी।

Also read:  लालू प्रसाद यादव का एक ही नारा था, 'तुम मुझे प्लॉट दो, मैं तुम्हें नौकरी दूंगा'-अनुराग ठाकुर

पुलवामा हमले पर कही थी ये बात

हाल ही में सत्यपाल मलिक ने एक इंटरव्यू दिया था, जिसमें उन्होंने पुलवामा हमले के लिए मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि ये हमला सिस्टम की अक्षमता और लापरवाही का नतीजा था। उस वक्त सीआरपीएफ ने जवानों को ले जाने के लिए विमान मांगा था, लेकिन गृह मंत्रालय ने मना कर दिया। उन्होंने खुफिया एजेंसियों को भी इस घटना के लिए जिम्मेदार ठहराया था।

Also read:  पंजाब में आम आदमी पार्टी से नहीं होगा संयुक्त समाज मोर्चा का गठबंधन, बलबीर राजेवाल ने किया इंकार

राम माधव पर कही थी ये बात

उन्होंने बीजेपी नेता राम माधव पर भी गंभीर आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा कि एक दिन राम माधव आए और कहा कि अगर मैं पनबिजली और रिलायंस बीमा योजना को मंजूरी दे दूं, तो 300 करोड़ रुपये मिलेंगे। हालांकि उन्होंने उन्हें मना कर दिया।