English മലയാളം

Blog

हाथरस: 

हाथरस गैंगरेप (Hathras Gangrape) पीड़िता के परिवार से सोमवार को मुलाकात करने गए आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह (Sanjay Singh) और विधायक राखी बिड़लान (Rakhi Bidlan) पर एक शख्स ने काली स्याही फेंक दी. यह घटना पीड़ित के गांव के बाहर हुई. जानकारी है कि आरोपी का नाम दीपक शर्मा है, जो एक हिंदूवादी संगठन से जुड़ा हुआ है.

घटना की जो फुटेज सामने आई हैं, उसमें देखा जा सकता है कि आप सांसद गांव के बाहर मीडिया से बातचीत कर रहे हैं, इसी दौरान काली शर्ट पहने एक शख्स आता है और सांसद पर काली स्याही फेंक देता है. आरोपी ने स्याही फेंकने के बाद नारे भी लगाए. बता दें कि संजय सिंह और राखी बिड़लान 5 लोगों के डेलिगेशन के साथ पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे थे.

Also read:  ओमान में इलेक्ट्रॉनिक फलाज प्रबंधन प्रणाली को लागू करने के लिए समझौता

कई दिनों तक हाथरस के पीड़िता के गांव को पुलिस की घेराबंदी में रखने और मीडिया पर रोक लगाने के बाद पुलिस ने शनिवार के बाद से यहां रास्ते खोले हैं. इसके बाद कई पार्टियों और संगठनों ने पीड़ित परिवार से मुलाकात की है. सबसे पहले यहां पर कांग्रेस से राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पहुंचे थे.

Also read:  कृषि कानून के खिलाफ पंजाब में आज पेश होगा बिल, विधेयक की कॉपी ना मिलने पर AAP MLAs ने सदन में गुजारी रात

रविवार को यहां पर सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियंस (CITU), अखिल भारतीय किसान सभा (AIKS), अखिल भारतीय कृषि मज़दूर संघ (AIAWU) और अखिल भारतीय लोकतांत्रिक महिला संघ (AIDWA) के प्रतिनिधिमंडल पहुंचे थे, जिन्होंने पीड़ित परिवार की न्याय के लिए लड़ाई में साथ खड़े होने की बात की.

हालांकि, इस केस में पुलिस कइयों पर कार्रवाई भी कर रही है. नोएडा पुलिस ने पिछले हफ्ते हाथरस जाने की कोशिश करने वाले प्रियंका और राहुल गांधी पर महामारी एक्ट में केस दर्ज किया था. लगभग 500 कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर हाथरस जाने के लिए हंगामा करने का केस दर्ज किया गया है. इसके अलावा भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आज़ाद समेत पार्टी के करीब 400 कार्यकर्ताओं पर हंगामा करने और निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने के मामले में सोमवार को केस दर्ज किया गया है.बता दें कि चंद्रशेखर रविवार को कार्यकर्ताओं के साथ पीड़िता के गांव पहुंचे थे, पुलिस ने पहले तो उन्हें पीड़ित के परिजनों से मिलने नहीं दिया, लेकिन काफी हंगामे और लाठीचार्ज के बाद आजाद समेत दस समर्थकों को अनुमति दे दी.

Also read:  इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल कर कहा कि हेट स्पीच को लेकर स्पष्ट कानून नहीं है