English മലയാളം

Blog

नई दिल्ली: 

Hathras case: उत्‍तरप्रदेश के हाथरस  (Hathras Gangrape) की युवती, जिसकी कथित तौर पर गैंगरेप और टार्चर किए जाने के कुछ दिनों बाद मौत हो गई थी, का गला घोंटा गया,  को बेरहमी से पीटा गया और इस कारण उसकी रीढ़ की हड्डी (सर्वाइकल स्‍पाइन) में चोट आई . ऑटोप्‍सी रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है. हालांकि फाइनल रिपोर्ट में रेप का जिक्र नहीं है, लेकिन इसमें प्राइवेट पार्ट को गंभीर नुकसान पहुंचने का उल्‍लेख किया गया है. इस बीच, यूपी पुलिस ने गुरुवार को दावा किया कि विसरा की फोरेंसिक रिपोर्ट से साबित हो गया है कि युवती के साथ रेप अथवा गैंगरेप नहीं हुआ था. यूपी के एक वरिष्‍ठ पुलिस अधिकारी प्रशांत कुमार ने कहा, ‘पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट कहती है कि पीड़िता की मौत गर्दन की चोट के कारण हुई. एफएसएल (फोरेसिंक साइंस रिपोर्ट) ने सैंपल्‍स में स्‍पर्म नहीं मिले हैं, इससे स्‍पष्‍ट है कि कुछ लोगों ने जातिगत तनाव बढ़ाने के लिए मामले को तूल दिया. ऐसे लोगों की पहचान करके इनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.’ विशेषज्ञों के अनुसार, सैंपल्‍स को घटना के एक दिन बाद कलेक्‍ट किया गया गया था ऐसे में स्‍पर्म (sperms) मौजूद नहीं रह सकते.

ऑटोप्‍सी रिपोर्ट में दावा किया गया है कि पीड़िता की मौत गला दबाने और उसके साथ हुई बर्बर मारपीट से हुई है. रिपोर्ट में कहा गया है कि युवती की रीढ़ की हड्डी पर भी चोट के निशान थे. ये रिपोर्ट दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल द्वारा जारी की गई है, जहां 20 वर्षीय युवती की मंगलवार को इलाज के दौरान मौत हो गई थी. डॉक्टरों की अंतिम डायग्नोसिस रिपोर्ट में रेप का जिक्र नहीं किया गया है लेकिन पीड़िता के इंटरनल पार्ट में छेड़छाड़ के संकेत दिए गए हैं.

Also read:  Mukesh Ambani: दूसरी संदिग्ध कार को मुंबई से बाहर जाते हुए देखा गया ,सीसीटीवी में हुई कैद

रिपोर्ट में लिखा गया है कि युवती की मौत रीढ़ की हड्डी में जोरदार चोट लगने की वजह से हुई है.रिपोर्ट में कहा गया है कि उसके गले पर दुपट्टा से गला घोंटने के भी निशान हैं लेकिन उसकी वजह से मौत नहीं हुई. 14 सितंबर को गांव के ही उच्च जाति के चार युवकों ने युवती के साथ गैंगरेप किया था. युवती खेतों में नग्न अवस्था में मिली थी. उसके शरीर से खून बह रहा था. उसके शरीर पर कई जगह चोट के निशान थे और हड्डियां टूटी हुई थीं.उसकी जीभ भी काट दी गई थी.

अस्पताल ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत के सारांश में लिखा है, “मरीज का शुरुआती इलाज कमजोर तरीके से किया गया और उसके अटेंडेंट को बताया गया कि मरीज की हालत स्थिर है. बाद में पर्याप्त उपचार के बावजूद रोगी की हालत धीरे-धीरे बिगड़ती गई और उसकी मौत हो गई.” रिपोर्ट में कहा गया है कि उसे CPR भी दिया गया लेकिन हरसंभव कोशिशों के बावजूद उसे बचाया नहीं जा सका था.

Also read:  कोरोना वायरस: पिछले 24 घंटों में 43,893 मामले दर्ज किए गए, कुल मामले 80 लाख के करीब पहुंचे

ऑटोप्‍सी रिपोर्ट में दावा किया गया है कि पीड़िता की मौत गला दबाने और उसके साथ हुई बर्बर मारपीट से हुई है. रिपोर्ट में कहा गया है कि युवती की रीढ़ की हड्डी पर भी चोट के निशान थे. ये रिपोर्ट दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल द्वारा जारी की गई है, जहां 20 वर्षीय युवती की मंगलवार को इलाज के दौरान मौत हो गई थी. डॉक्टरों की अंतिम डायग्नोसिस रिपोर्ट में रेप का जिक्र नहीं किया गया है लेकिन पीड़िता के इंटरनल पार्ट में छेड़छाड़ के संकेत दिए गए हैं.

रिपोर्ट में लिखा गया है कि युवती की मौत रीढ़ की हड्डी में जोरदार चोट लगने की वजह से हुई है.रिपोर्ट में कहा गया है कि उसके गले पर दुपट्टा से गला घोंटने के भी निशान हैं लेकिन उसकी वजह से मौत नहीं हुई. 14 सितंबर को गांव के ही उच्च जाति के चार युवकों ने युवती के साथ गैंगरेप किया था. युवती खेतों में नग्न अवस्था में मिली थी. उसके शरीर से खून बह रहा था. उसके शरीर पर कई जगह चोट के निशान थे और हड्डियां टूटी हुई थीं.उसकी जीभ भी काट दी गई थी.

Also read:  हाथरस केस: सुप्रीम कोर्ट से यूपी सरकार का अनुरोध- CBI जांच की करें निगरानी

अस्पताल ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत के सारांश में लिखा है, “मरीज का शुरुआती इलाज कमजोर तरीके से किया गया और उसके अटेंडेंट को बताया गया कि मरीज की हालत स्थिर है. बाद में पर्याप्त उपचार के बावजूद रोगी की हालत धीरे-धीरे बिगड़ती गई और उसकी मौत हो गई.” रिपोर्ट में कहा गया है कि उसे CPR भी दिया गया लेकिन हरसंभव कोशिशों के बावजूद उसे बचाया नहीं जा सका था.

गौरतलब है कि 14 सितंबर को गांव के ही उच्च जाति के चार युवकों ने युवती के साथ कथित तौर पर गैंगरेप किया था. युवती खेतों में निर्वस्‍त्र अवस्‍था में मिली थी. उसके शरीर से खून बह रहा था. उसके शरीर पर कई जगह चोट के निशान थे और हड्डियां टूटी हुई थीं.उसकी जीभ भी काट दी गई थी. गैंगरेप पीडि़त की मंगलवार को दिल्‍ली के एक अस्‍पताल में मौत हो गई थी और पुलिस ने रात में ही उसका अंतिम संस्‍कार कर दिया. परिवार भी अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो सका