English മലയാളം

Blog

कांगड़ा: 

हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता शांता कुमार की पत्नी संतोष शैलजा (Shanta Kumar’s wife Santosh Shailja) का 73 साल की आयु में मंगलवार तड़के को निधन हो गया है. उन्होंने कांगड़ा के टांडा मेडिकल कॉलेज में अंतिम सांस ली. उन्हें पिछले 4 दिनों पहले ही टांडा मेडिकल कॉलेज में भर्ती किया गया था. वो 4 दिन पहले कोरोना संक्रमित पाई गई थीं. जानकारी है कि उनका पूरा परिवार भी कोरोनावायरस से संक्रमित है और कोविड का इलाज करा रहा है. पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार की धर्मपत्नी के निधन से कांगड़ा सहित पूरे प्रदेश में शोक की लहर दौड़ गई है. सीएमओ कांगड़ा डॉक्टर गुरदर्शन गुप्ता ने मौत होने की पुष्टि की है.

Also read:  कोरोना: पिछले 24 घंटे में मिले 27071 नए मरीज, IIT मद्रास के छात्रावास में सभी छात्रों का होगा टेस्ट

हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने इस घटना पर शोक व्यक्त किया है. उन्होंने एक ट्वीट कर इस घटना पर सार्वजनिक तौर पर शोक जताया है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, ‘हमारे वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री आदरणीय शांता कुमार जी की धर्मपत्नी श्रीमती संतोष शैलजा जी के निधन का दुःखद समाचार सुन कर अत्यंत दुःखी हूं. ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति दें एवं शोक संतप्त परिवार जनों को इस असहनीय दुःख को सहन करने की शक्ति प्रदान करें. ॐ शान्ति!’

शैलजा का राज्य के कांगड़ा जिले के टांडा स्थित डॉ. राजेंद्र प्रसाद सरकारी मेडिकल कॉलेज में उपचार चल रहा था. उनके परिवार के चार अन्य सदस्य, उनका निजी सचिव, सुरक्षा अधिकारी और चालक भी संक्रमित पाए गए हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनका और उनके परिवार का हाल-चाल जानने के लिए रविवार को उनसे बात की थी.

Also read:  भारत में पिछले 24 घंटे में दर्ज हुए 29,398 नए COVID-19 केस, 414 की मौत

बता दें कि हिमाचल प्रदेश में कोरोना संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है और कोरोना से मौत के आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे हैं. कांगड़ा जिला में अब तक 7,624 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं, जिनमें फिलहाल 576 एक्टिव मामले हैं और 184 लोगों की मौत हो चुकी है.