English മലയാളം

Blog

दुनिया की सबसे बड़ी इलेक्ट्रिक कार निर्माता कंपनी Tesla (टेस्ला) ने अपनी प्रीमियम सेडान कार Model S (मॉडल एस) को अपडेट किया है। कार निर्माता ने कार के इंटीरियर को अपडेट किया है, वहीं कार के एक्सटीरियर लुक में भी मामूली बदलाव किए हैं। टेस्ला ने सेडान की कंप्यूटर पावर को भी अपग्रेड किया है। टेस्ला ने 2020 के लिए चौथी तिमाही के मुनाफे की रिपोर्ट के साथ ही पहले ही इस अपडेट का एलान कर दिया था। 2021 Model S का उत्पादन फरवरी 2021 से शुरू होने की उम्मीद है।

Model S के लिए यह अपडेट जरूरी था क्योंकि यह अपने अन्य प्रतिद्वंद्वी पेट्रोल-डीजल सेडान कारों की तुलना में थोड़ी पुरानी लगने लगी थी। बता दें कि  क्योंकि इसे Model S इलेक्ट्रिक सेडान कार को 2012 में लॉन्च किया गया था और उसके बाद से इस कार में पहली बार इतना बड़ा बदलाव किया गया है।

मॉडल S सेडान कार को ज्यादा स्पोर्टी बनाने के लिए इसके एक्सटीरियर में मामूली अपग्रेड किए गए हैं। कार में नया फ्रंट बंपर, एयर इंटेक्स में मामूली बदलाव और रियर में एयर डिफ्यूजर मिलता है। इसमें नए 19-इंच और 21-इंच के अलॉय व्हील दिए गए हैं। कार के हैंडल, खिड़की की बेल्ट अन्य चीजें जैसे दरवाजे जो क्रोम फिनिश में मिलती थीं अब उन्हें काले रंग के साथ पेश किया गया है।

Also read:  एलन मस्क की कंपनी टेस्ला ने बंगलुरु के रास्ते भारत में दी दस्तक, अब यहां बनेंगी इलेक्ट्रिक कारें

Tesla Model 3  काले रंग की फिनिश के साथ आती है और Model S खरीदने वाले ग्राहक क्रोम हटाने के लिए बाहर की दुकानों में जाते थे। इसलिए टेस्ला को इसका एहसास हुआ और अब यह फैक्ट्री फिटेड तरीके से मिलेगी। टेस्ला अब कांच की छत स्टैंडर्ड रूप में देगी।

अब इस कार में दो नए वेरिएंट्स- Plaid और Plaid+ मिलेंगे। Plaid वेरिएंट अब तक मिलनेवाली परफॉर्मेंस वेरिएंट को रिप्लेस करेगी। Plaid वेरिएंट का प्रदर्शन और रेंज पिछले परफॉर्मेंस वेरिएंट के जैसा ही है। यह 627 किलोमीटर का रेंज देती है और इसकी टॉप स्पीड 250 किलोमीटर प्रति घंटा है। यह कार सिर्फ 2 सेकंड में 0 से 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ सकती है।

नई Plaid+ वेरिएंट में बैटरी मिलेगी जो कार के स्ट्रक्चर का हिस्सा होगी। यह कार 110 bhp का पावर जेनरेट कर सकती है और सिर्फ 1.9 सेकंड में एक टन तक पावर जेनरेट कर सकती है। यह खूबी Model S Plaid+ कार को सबसे तेज एक्सीलरेटिंग प्रॉडक्शन कार बनाता है। कंपनी का दावा है कि Plaid+ वेरिएंट में 837 किलोमीटर की रेंज देती है और इसकी टॉप स्पीड 320 किलोमीटर प्रति घंटे है।

 

Model S के इंटीरियर में भी कई बदलाव देखने को मिले हैं। वर्टिकल सेंटर-माउंटेड टचस्क्रीन को रिप्लेस कर अब लैंडस्केप टचस्क्रीन दिया गया है, जो कि 17 इंच बड़ा है और इसका रिजॉल्यूशन 2200 x 1300 पिक्सेल है और इसे बाएं या दाएं ओर झुकाया जा सकता है।

Also read:  गुरुवार को शेयर बाजार में उछाल, 629 अंकों की उछाल के साथ बंद हुआ सेंसेक्स

इसके साथ ही कार की कंप्यूटिंग स्पीड भी 10 टेराफ्लॉप तक बढ़ाई गई है जो लगभग सोनी के प्लेस्टेशन 5 के जितनी है। अब आप इसके साथ एक वायरलेस कंट्रोलर भी कनेक्ट कर सकते हैं और Witcher 3 जैसे काफी पसंद किए जाने वाले कंप्यूटर गेम भी खेल सकते हैं। कंपनी के मालिक एलन मस्क ने एक ट्वीट में कहा कि इसमें Cyberpunk 2077 गेम खेला जा सकता है।

इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर पहले की तरह ही 12.3 इंच की पूरी तरह से डिजिटल यूनिट है, लेकिन पिछली पीढ़ी की कार की तरह अब इसमें वाइपर या गियर सिलेक्टर के लिए कोई अलग से बटन नहीं दिया गया है। टेस्ला अब यू-आकार के स्टीयरिंग व्हील का इस्तेमाल कर रहा है, जिस पर मल्टी-फंक्शन कंट्रोल हैं। यह आपको एयरोप्लेन के स्टीयरिंग व्हील की याद दिला देगा।

कार का डैशबोर्ड अब बिना वेंट के है और इसमें लकड़ी के इंसर्ट्स का इस्तेमाल हुआ है, जो कि मॉडल 3 के डैशबोर्ड का बेहतर वर्जन पेश करता है। पीछे की सीटों में बैठने वालों के लिए एक छोटी स्क्रीन भी दी गई है। Tesla Model X जो कि मॉडल S पर आधारित एक SUV है। इसमें भी वही अपडेट्स मिलेंगे लेकिन इसमें Plaid+ वेरिएंट नहीं मिलेगा।

Also read:  एचडीएफसी बैंक के आदित्य पुरी हुए सेवानिवृत्त

टेस्ला भारतीय बाजार में एंट्री करने पर काम कर रही है। कंपनी ने पहले ही Tesla India Motors and Energy Pvt Ltd. (टेस्ला इंडिया मोटर्स और एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड) के नाम से आरओसी बैंगलोर के साथ रजिस्ट्रेशन कर चुकी है।

टेस्ला इंडिया के लिए नियुक्त निर्देशक वैभव तनेजा, वेंकटरंगम श्रीराम और डेविड जॉन फेंस्टीन हैं। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी भी 2021 में टेस्ला के भारत आने की पुष्टि कर चुके हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक टेस्ला भारत में जो पहला मॉडल बेचेगी वह Model 3 होगी क्योंकि यह कंपनी का एंट्री लेवल मॉडल है। टेस्ला ने कुछ साल पहले भारत में Model 3 की बुकिंग शुरू की थी और बहुत से लोगों ने इसके लिए अपने पैसे जमा करा दिए थे।

रिपोर्ट के मुताबिक फिलहाल इस बात की बहुत ज्यादा संभावना है कि Model 3 कार एक CBU यानी पूरी तरह से निर्मित इकाई होगी और बाद में इसे CKD यानी पूरी तरह से नॉक डाउन यूनिट में बदला जा सकता है। इस वजह से भारत में Tesla Model 3 कार की अनुमानित एक्स-शोरूम कीमत 55 लाख रुपये से लेकर 60 लाख रुपये तक हो सकती है।