English മലയാളം

Blog

सिडनी: 

टेस्ट सीरीज मीलों दूर है, लेकिन हर दिन गुजरने के साथ ऑस्ट्रेलिया पूर्व क्रिकेटर भारतीय पर नित-नए शब्दबाण दाग रहे हैं. कुछ दिन पहले इसकी शुरुआत रिकी पोंटिंग ने की थी और तब से लेकर कोई न कोई नाम इस कड़ी में जुड़ता जा रहा है. ताजा नाम पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क का है, जो एक नया ही एंगल लेकर सामने आए हैं! माइकल क्लार्क (Michael Clarke) ने चेताया है कि अगर कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) स्वदेश लौटने से पहले सीमित ओवरों की श्रृंखला में भारत को लय नहीं देंगे तो टीम को टेस्ट श्रृंखला में 0-4 से शिकस्त झेलनी पड़ेगी. कोहली को भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने उनके पहले बच्चे के जन्म के लिए पितृत्व अवकाश प्रदान किया है. वह तीन एक दिनी और इतने ही टी20 मैचों की श्रृंखला और फिर एडिलेड में पहले टेस्ट में भारत की अगुआई करने के बाद स्वदेश लौटेंगे.  क्लार्क (Michael Clarke) ने मंगलवार को ‘स्काई स्पोर्ट्स रेडियो’ से कहा, ‘एक दिवसीय और टी20 मैचों में विराट कोहली आगे बढ़कर अगुआई कर सकता है. अगर भारत ने एकदिनी और टी20 में सफलता हासिल नहीं की तो फिर टेस्ट मैचों में वे गहरी मुसीबत में होंगे और मेरे नजरिये से उन्हें 0-4 से हार झेलनी पड़ेगी.’

क्लार्क का मानना है कि सिर्फ एक टेस्ट में खेलने के बावजूद करिश्माई भारतीय कप्तान सीमित ओवरों की श्रृंखला में दबदबा बनाकर टेस्ट श्रृंखला के नतीजे में बड़ी भूमिका निभा सकता है. उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि वह इस टीम को जो लय देगा वह पहले टेस्ट के बाद उसके जाने पर बड़ी भूमिका निभाएगी. दुनिया की दो सर्वश्रेष्ठ टीमों के बीच इस बहुप्रतीक्षित श्रृंखला की शुरुआत 27 नवंबर को सिडनी में पहले एक दिवसीय मैच के साथ होगी. ऑस्ट्रेलिया की विश्व कप जीतने वाली टीम के कप्तान रहे क्लार्क ने कहा कि इस श्रृंखला में जसप्रीत बुमराह की भूमिका अहम होगी और इस स्टार तेज गेंदबाज को आक्रामक गेंदबाजी करके मेजबान टीम को दबाव में डालना होगा.

Also read:  IPL 2020: मुंबई ने पोस्ट की रोहित की नेट प्रैक्टिस की फोटो और VIDEO, बीसीसीआई पर उठी उंगली, आखिर माजरा क्या है ?

उन्होंने कहा कि गेंदबाजी का आगाज करने वाला गेंदबाज, संभवत: फिलहाल छोटे प्रारूप में दुनिया का सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज है लेकिन टेस्ट क्रिकेट में भी उसने शानदार सफलता हासिल की है. वह तेज गति से गेंद डालता है, उसका एक्शन बिलकुल अलग है, इसलिए मुझे लगता है कि उसे ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को बेहद आक्रामकता के साथ गेंदबाजी करने की जरूरत है. क्लार्क ने साथ ही कहा कि बुमराह सलामी बल्लेबाज डेविड वॉर्नर को परेशान करने में सफल रहे हैं और उनमें स्टार बल्लेबाज स्टीव स्मिथ को भी परेशान करने की क्षमता है. उन्होंने कहा कि यह सिर्फ इस पर निर्भर नहीं करता कि वह कितने विकेट लेता है, इस पर निर्भर करता है कि वह कैसी गेंदबाजी करता है. फिलहाल, वह डेविड वॉर्नर के खिलाफ सफलता हासिल कर रहा है, उसने उसे कई बार आउट किया है.

Also read:  IND vs AUS A: शुबमन गिल ने ठोका तूफानी अर्धशतक, मयंक का भी पचासा

क्लार्क ने कहा, ‘यहां तक कि स्टीव स्मिथ जैसे खिलाड़ी के खिलाफ वह लगातार शॉर्ट गेंद का इस्तेमाल करने में सफल रहा है जैसा कि जोफ्रा आर्चर ने एशेज में किया था.  इन दोनों (कोहली और बुमराह) को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आगे बढ़कर जिम्मेदारी निभानी होगी और ये दो खिलाड़ी आस्ट्रेलिया के खिलाफ आक्रामक रवैया दिखाने के लिए भारत के दो सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी हैं. भारत ने 2018-19 में आस्ट्रेलिया में पहली बार टेस्ट श्रृंखला जीतकर इतिहास रचा था. उस श्रृंखला में हालांकि मेजबान टीम अपने स्टार बल्लेबाजों स्मिथ और वार्नर के बिना उतरी थी जिन्हें 2018 में गेंद से छेड़छाड़ प्रकरण में भूमिका के कारण निलंबित किया गया था.

Also read:  IPL 2020: धोनी की स्टाइल में निकोलस पूरन को रन आउट नहीं कर पाए Rishabh Pant, धवन ने गुस्से से देखा..देखें Video