English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-09-02 105637

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कोच्चि में, कोचीन शिपयार्ड लिमिटेड द्वारा निर्मित देश के पहले स्वदेशी विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रांत को नौसेना को समर्पित किया।

 

यह भारत के समुद्री इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा जंगी जहाज है। पीएम मोदी ने कोचीन शिपयार्ड में 20,000 करोड़ रुपये की लागत से बने स्वदेशी अत्याधुनिक स्वचालित यंत्रों से युक्त विमान वाहक पोत आईएनएस विक्रांत का जलावतरण किया। इस कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री नए नौसैनिक ध्वज (निशान) का भी अनावरण किया।

Also read:  यूपी में बुल्डोजर बाबा तो एमपी में बुल्डोजर मामा, बुल्डोजर मामा की बदमासों पर कड़ी कार्रवाई, छतरपुर में गैंगस्टर का मकान को किया जमींदोज

भारतीय नौसेना का नया निशान छत्रपति शिवाजी की नौसेना के चिन्ह से प्रेरित है, जो औपनिवेशिक अतीत को पीछे छोड़ते हुए समृद्ध भारतीय समुद्री विरासत के अनुरूप है। इस मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान, सीएम पिनाराई विजयन, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, नौसेना प्रमुख एडमिरल आर. हिरकुमार और अन्य गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।

Also read:  गोवा कांग्रेस में कुछ ठीक नहीं चल रहा, राष्ट्रपति चुनाव से पहले 5 विधायकों को किया चेन्नई शिफ्ट