English മലയാളം

Blog

UPSC CSE Prelims Paper Analysis 2020: यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) की प्रीलिम्स परीक्षा रविवार को समाप्त हो गई है. परीक्षा का आयोजन देशभर के 72 परीक्षा केंद्रों कोरोना वायरस के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए किया गया.

बता दें, यूपीएससी की परीक्षा दो शिफ्ट में हुई थी. पहली शिफ्ट की परीक्षा सुबह 9:30 बजे और दूसरी शिफ्ट की परीक्षा दोपहर में 2:30 बजे आयोजित की गई थी. यूपीएससी प्री की परीक्षा में दो पेपर होते हैं. पहला पेपर जनरल स्टडीज  और दूसरा पेपर जनरल स्टडीज पेपर-2 का होता है. जिसे (CSAT) भी कहा जाता है.

Also read:  CBSE Practical Exam 2021: दसवीं-बारहवीं की प्रैक्टिकल परीक्षाएं 1 मार्च से

जानें- कैसे रही परीक्षा, कौनसा सेक्शन था आसान, पढ़ें एनालिसिस

GS Score के डायरेक्ट मनोज के झा के अनुसार, “इस साल लगभग 14 प्रश्न अर्थशास्त्र से सीधे पूछे गए थे. कुछ प्रश्न जैसे गोल्ड ट्रेन्च,FDI, TRIMS आदि डायरेक्ट कॉसेप्ट बेस्ड प्रश्न थे. जबकि RBI की मौद्रिक नीति, सहकारी बैंकों की भूमिका आदि पर कुछ प्रश्न वर्तमान प्रभाव से प्रभावित थे. इकोनॉमी सेक्शन के बारे में उन्होंने कहा, “कुल मिलाकर, इकोनॉमी सेक्शन स्तर मध्यम था.”

Also read:  हरियाणा में कक्षा तीन से पांचवीं तक के बच्चों के लिए 24 फरवरी से खुलेंगे स्कूल

साइंस सेक्शन पर मनोज के झा कहते हैं, “जो उम्मीदवार स्टैटिक और करंट दोनों की तैयारी अच्छे से करके आया है वह इस सेक्शन को आसानी से हैंडल किया जा सकता है. उन्होंने बताया, इतिहास के सेक्शन में थोड़े मध्यम और थोड़े मुश्किल सवाल पूछे गए थे. इसी के साथ जियोग्राफी सेक्शन में  एग्रीकल्चर से जुड़े प्रश्न ज्यादा पूछे गए थे.”

Also read:  UPSC ने जारी की मार्कशीट, यहां देखें- पहली रैंक हासिल करने वाले प्रदीप के नंबर

करंट अफेयर्स सेक्शन में मनोज के झा ने कहा “करंट अफेयर्स में हर साल ट्रेंड को चुनौती देने की क्षमता होती है, लेकिन करंट का चलन पिछले साल की तुलना में लगभग समान ही है.”