English മലയാളം

Blog

भुवनेश्वर: 

केंद्रीय मंत्री प्रताप सारंगी (Pratap Sarangi) ने रविवार को कहा कि देश के सभी नागरिकों को कोविड-19 (Covid-19) का टीका निशुल्क उपलब्ध कराया जाएगा. बीजेपी (BJP) द्वारा बिहार (Bihar) के लोगों को कोविड-19 का टीका निशुल्क उपलब्ध कराने की घोषणा के बाद विपक्षी दलों ने सत्तारूढ़ एनडीए (NDA) पर महामारी को राजनीतिक लाभ के लिए इस्तेमाल करने का आरोप लगाया था क्योंकि बिहार में विधानसभा चुनाव का प्रचार जारी है.

बालासोर में तीन नवंबर को होने जा रहे उपचुनाव के लिए एक सभा को संबोधित करने के बाद सारंगी ने संवाददाताओं से कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की है कि सभी लोगों को कोविड-19 का टीका निशुल्क उपलब्ध कराया जाएगा. प्रत्येक व्यक्ति के टीकाकरण पर करीब 500 रुपये खर्च होंगे.

Also read:  क्रेडिट कार्ड यूजर्स को क्यों मिलना चाहिए मोरेटोरियम का लाभ :  सुप्रीम कोर्ट

इससे पहले दिन में ओडिशा सरकार में मंत्री आरपी स्वैन ने केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और प्रताप सांरगी पर हमला बोलते हुए कोविड-19 का टीका निशुल्क उपलब्ध कराने के संबंध में जवाब मांगा था. जिसके बाद सारंगी ने यह दावा किया है.

उधर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने बिहार (Bihar) में कोरोना वायरस (Coronavirus) का टीका (Vaccine) मुफ्त उपलब्ध कराने के बीजेपी (BJP) के चुनावी वादे पर तंज कसते हुए कहा कि क्या दूसरे राज्यों के लोग बांग्लादेश या कजाकिस्तान से आए हैं? ठाकरे दादर के सावरकर हॉल में आयोजित शिवसेना (Shiv sena) की वार्षिक दशहरा रैली को संबोधित कर रहे थे. इस बार कोरोना वायरस की रोकथाम के नियमों के चलते हर साल की तरह शिवाजी पार्क में यह आयोजन नहीं किया गया.

Also read:  Toolkit Case: दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट आज दोपहर दो बजे दिशा रवि की जमानत याचिका पर सुनवाई करेगी

उद्धव ठाकरे  (Uddhav Thackeray) ने कहा, ‘‘आप बिहार में लोगों के लिए कोविड-19 के मुफ्त टीके का वादा करते हैं, तो क्या अन्य राज्यों के लोग बांग्लादेश या कजाकिस्तान से आए हैं? ऐसी बातें कर रहे लोगों को खुद पर शर्म आनी चाहिए. आप केंद्र में बैठे हैं.” अभिनेत्री कंगना रनौत पर परोक्ष निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोग रोजी-रोटी के लिए मुंबई आते हैं और शहर को पीओके (पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर) बोलकर उसे गाली देते हैं.

Also read:  किसान आंदोलन: सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र, पंजाब और हरियाणा को भेजा नोटिस, कल होगी मामले पर सुनवाई