English മലയാളം

Blog

pm-modiii

 यूक्रेन से भारतीय नागरिकों को निकालने में रोमानिया द्वारा प्रदान की गई सहायता के लिए पीएम नरेन्‍द्र मोदी और रोमानिया के पीएम निकोले-इओनेल सियुको से फोन किया।

प्रधानमंत्री ने भारतीय नागरिकों को बिना वीजा के रोमानिया में प्रवेश करने और भारत से विशेष निकासी उड़ानों की अनुमति देने में रोमानिया के कदम की सराहना की।

प्रधानमंत्री कार्यालय के अनुसार, पीएम मोदी ने यूक्रेन में जारी हिंसा और मानवीय संकट पर भी अपनी पीड़ा व्यक्त की और बातचीत की वापसी की आवश्यकता को दोहराया। उन्होंने राष्ट्रों की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करने के महत्व पर भी जोर दिया। पीएम मोदी ने स्थानीय अधिकारियों के साथ समन्वय के लिए अगले कुछ दिनों में भारतीय नागरिकों के निकासी के प्रयासों की निगरानी के लिए नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को उनके विशेष दूत के रूप में तैनात करने के बारे में भी सूचित किया।

Also read:  पंजाब बना पहला राज्य, पांचवीं से 12वीं कक्षा के लिए 7 जनवरी से खुल जाएंगे स्कूल

आपरेशन गंगा में पीएम मोदी ने भेजे चार मंत्री

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों और दूसरे नागरिकों को सुरक्षित स्वदेश लाने के काम को और तेज करने के लिए केंद्र सरकार ने चार वरिष्ठ मंत्रियों को विशेष दूत के तौर पर यूक्रेन की पश्चिमी सीमा से सटे पांच देशों में भेजने का फैसला किया है। नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को रोमानिया व मालदोवा, पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी को हंगरी, कानून मंत्री किरण रिजिजू को स्लोवाकिया और नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह को पोलैंड भेजा जा रहा है।

Also read:  भारत में वायु प्रदूषण का परकोप, वायु प्रदूषण से 100000 लोगों की हुई अकाल मृत्यु

चूंकि यूक्रेन से भारतीय नागरिकों को इन पांच देशों के जरिये ही भारत लाया जा रहा है, इसलिए वहां स्थानीय स्तर पर बेहतर समन्वय के लिए इन मंत्रियों की भूमिका अहम होगी। इसके अलावा विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने सोमवार को इस संबंध में पोलैंड के विदेश मंत्री जबिग्न्यू रौ से बात की।

Also read:  राज्यसभा चुनाव के लिए छत्रपती संभाजी महाराज की दावेदारी मु्श्किल में, संजय राऊत ने राज्यसभा की छटी सीट पर दावा किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में सोमवार को दो उच्चस्तरीय बैठकें हुईं जिनमें सभी संबंधित वरिष्ठ मंत्री और दूसरे अधिकारी उपस्थित थे। इस तरह से 24 घंटे में प्रधानमंत्री तीन बैठकें बुला चुके हैं जिनमें यूक्रेन की स्थिति और वहां से भारतीयों को सकुशल लाने के लिए चलाए जा रहे आपरेशन गंगा की समीक्षा की गई।