English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-09-06 151432

मेघालय में एक गर्भवती महिला को एंबुलेंस न मिलने पर बांस के स्ट्रेचर पर 5 किलोमीटर ले जाने का बेबसी भरा केस सामने आया है। मामला मेघायल के री-भोई जिले का है।  यहां 36 सप्ताह की एक गर्भवती महिला को एंबुलेंस नहीं मिल सकी और जुगाड़ से बनाए गए स्ट्रेचर से उन्हें 5 किलोमीटर दूर ले जाना पड़ा।

महिला की डिलीवरी सोमवार को हुई है. जब उसे स्ट्रेचर पर रखकर अस्पताल ले जाया जा रहा था तो वह हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित होने के साथ-साथ लेबर पेन भी झेल रही थी. हालांकि, ग्रामीणों ने उसे समय रहते स्वास्थ्य केंद्र पर पहुंचा दिया। पाथरखमा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉक्टर सी लिंगदोह ने एजेंसी को बताया कि जालीलम गांव के स्वयंसेवकों ने मरीज को करीब पांच किलोमीटर तक ले जाने के लिए बारी-बारी से काम किया. क्योंकि वहां कोई वाहन या एंबुलेंस नहीं थी।

Also read:  चेन्नई में ऑटो रिक्शा चालक यात्रियों को देता है लग्जरी सुविधाएं

 

डॉ. लिंगदोह ने कहा कि उसने सीएचसी में चार किलो से ज्यादा वजन वाली एक बच्ची को जन्म दिया है. दोनों स्वस्थ्य हैं। बता दें कि महिला को अस्थायी स्ट्रेचर पर ले जाने का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसके बाद लोग प्रशासन की आलोचना कर रहे हैं।
गांव के एक बुजुर्ग ने बताया कि जलीलम और स्वास्थ्य केंद्र के बीच की सड़क कई वर्षों से खराब है।

Also read:  शेयर बाजार में आई बहार, सेंसेक्स में 1145 अंकों की उछाल के साथ 56038 पर पहुंचा

 

ऐसा एक मामला 28 जुलाई को उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले के कप्तानगंज में सामने आया था। यहां एंबुलेंस के इंतजार में एक महिला ने ठेले पर ही बच्चे को जन्म दे दिया था। रमवापुर गांव के राम सागर के यहां उनकी साली 28 वर्षीय सीमा कुछ दिन पहले इस उम्मीद से आई थी कि यहां से कप्तानगंज अस्पताल नजदीक है।  इससे उसे खुद और आने वाले बच्चे का सही इलाज हो पाएगा। हालांकि, उसकी उम्मीदों को अस्पताल प्रशासन की लापरवाही से बड़ा झटका लगा और समय पर एंबुलेंस न आने के कारण उसने ठेले पर ही बच्चे को जन्म दे दिया।

Also read:  यूपी के पांच विधायक जो जीते सबसे ज्यादा वोटों से लेकिन नहीं मिली कैबीनेट में जगह