English മലയാളം

Blog

WhatsApp-Image-2022-03-04-at-08.09.06

नवीन की मौत के बाद यूक्रेन के कीव में फिर एक और भारतीय छात्र पर गोली से हमला कर दिया गया है। किरेन रिजिजू और जनरल वीके सिंह, यूक्रेन से सटे देशों में भारतीय नागरिक को लिकालने के लिए प्रयास कर रहे हैं।

 

भारतीय छात्र नवीन शेखरप्पा की मौत के बाद अब यूक्रेन (Ukraine) की राजधानी कीव (Kyiv) में फिर एक और भारतीय छात्र पर गोली से हमला कर दिया गया है। जनरल वीके सिंह (General VK singh) ने कहा, ‘कीव के एक छात्र को गोली लगने की सूचना मिली है और उसे तुरंत कीव के अस्पताल में भर्ती कराया गया है।’उन्होंने कहा, भारतीय दूतावास ने पहले प्राथमिकता पर मंजूरी दे दी थी कि सभी को कीव छोड़ देना चाहिए। युद्ध की स्थिति में, बंदूक की गोली किसी के धर्म और राष्ट्रीयता को नहीं देखती है।

Also read:  रेलवे की संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले उपद्रवियों के खिलाफ RPF ने की बड़ी कार्रवाई, 1800 से ज्यादा गिरफ्तार

बता दें छात्र वर्तमान में युद्धग्रस्त देश यूक्रेन से भाग रहे हैं और अपनी सुरक्षित भारत वापसी के लिए पोलैंड की सीमा तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं। चार केंद्रीय मंत्री, हरदीप सिंह पुरी, ज्योतिरादित्य एम सिंधिया, किरेन रिजिजू और जनरल (सेवानिवृत्त) वीके सिंह, यूक्रेन से सटे देशों में निकासी प्रयासों की देखरेख कर रहे हैं।

पंजाब के बरनाला में 22 साल के छात्र की मौत

 वहीं पंजाब के बरनाला जिले के 22 वर्षीय छात्र की बुधवार को युद्ध प्रभावित यूक्रेन में मौत हो गई। मस्तिष्क में खून के प्रवाह में बाधा की बीमारी के लिए करीब एक महीने से उसका उपचार चल रहा था। आधिकारिक सूत्रों ने यहां बताया कि चंदन जिंदल को यूक्रेन के विनित्सिया आपातकालीन अस्पताल में भर्ती कराया गया था। छात्र के परिवार ने सरकार से उसके पार्थिव शरीर को वापस लाने का अनुरोध किया है।

Also read:  NCP प्रमुख शरद पवार का दावा- 'असम को छोड़ हर राज्य में हारेगी BJP'

जिंदल विनित्सिया नेशनल पिरोगोव मेमोरियल मेडिकल यूनिवर्सिटी, विनित्सिया में पढ़ाई कर रहे थे। जिंदल के चाचा कृष्ण गोपाल ने बरनाला में संवाददाताओं से कहा कि उन्हें तीन फरवरी को उसके खराब स्वास्थ्य की सूचना मिली थी और यूक्रेन के अधिकारियों ने ऑपरेशन करने के लिए परिवार की मंजूरी मांगी थी। गोपाल ने कहा कि वह और चंदन के पिता सात फरवरी को यूक्रेन गए थे। गोपाल बाद में लौट आए, जबकि उनके भाई अपने बेटे के साथ यूक्रेन में रह गए।

भारतीय नागरिकों की वापसी जारी

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने “ऑपरेशन गंगा” के तहत यूक्रेन से वापस लाए गए 439 भारतीय नागरिकों का यहां इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर स्वागत किया और कहा कि वहां से भारत के सभी नागरिकों को सुरक्षित स्वदेश लाने के लिए मोदी सरकार ‘मिशन मोड’ पर काम कर रही है। नकवी ने विशेष विमान में पहुंचकर यूक्रेन से आए भारतीय नागरिकों का स्वागत करते हुए कहा कि “ऑपरेशन गंगा” के तहत यूक्रेन में फंसे सभी भारतीय नागरिक, छात्र सुरक्षित भारत आ सकें इसके लिए मोदी सरकार पूरी मजबूती के साथ ‘मिशन मोड’ पर काम कर रही है।

Also read:  दिल्लीवालों के लिए लगातार काम कर रही केजरीवाल सरकार ने मजदूरों का न्यूनतम वेतन बढ़ाया- मनीष सिसोदिया

उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में जो अभियान चल रहा है उसके तहत हजारों की संख्या में भारतीय नागरिक, भारतीय छात्र अभी तक सुरक्षित भारत लाये गए हैं। हमारी कोशिश है कि हिंदुस्तान का हर नागरिक भारत सुरक्षित आ सके, इसके लिए सरकार दिन-रात काम कर रही है, हमारे दूतावास काम कर रहे हैं, प्रधानमंत्री खुद उसकी निगरानी कर रहे हैं।