English മലയാളം

Blog

नई दिल्ली: 

26 जनवरी की घटना के बाद से कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसान आंदोलन को लेकर अस्थिरता फैली हुई है. इस बीच पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बागपत में एक हाईवे पर प्रदर्शन कर रहे किसानों को हटाए जाने की खबर आई है. जानकारी है कि बुधवार की रात को यूपी पुलिस ने इन किसानों को यहां से हटा दिया है. किसानों को हटाए जाने को लेकर यूपी पुलिस ने नेशनल हाईवे अथॉरिटी के एक नोटिस का हवाला दिया है, जिसमें निर्माण गतिविधि में देरी होने की बात की गई थी.

Also read:  किसानों की भूख हड़ताल शुरू, केंद्र ने कहा- अगले दौर की बातचीत के लिए तय करें तारीख

बुधवार रात की इस घटना के कुछ विजु़अल्स भी सामने आए हैं, जिनमें पुलिस टेंट में बैठे लोगों को भगाती हुई नज़र आ रही है. पुलिस का कहना है कि उसने प्रदर्शनकारियों को बलपूर्वक नहीं हटाया है.

न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक, बागपत के ADM अमित कुमार सिंह ने कहा, ‘NHAI ने हमें एक लेटर लिखा था, जिसमें यहां पर किसानों के प्रदर्शन के चलते सड़क निर्माण गतिविधि में देरी होने की बात कही गई थी. हमने किसानों को शांतिपूर्वक प्रदर्शनस्थल से हटा दिया है.’

बता दें कि हरियाणा में भी दिल्ली-जयपुर हाईवे के एक प्रदर्शनस्थल से किसानों को हटाए जाने की मांग उठी थी. बुधवार को खबर आई थी कि हरियाणा के रेवाड़ी जिले में कम से कम 15 गांवों की एक पंचायत ने दिल्ली-जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर डेरा डाले किसानों से 24 घंटे के भीतर सड़क खाली करने को कहा. यहां पर किसानों और गांववालों के बीच बहस भी हुई थी, जिसके बाद पुलिस ने बीच-बचाव कर मामला सुलझाया.