English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-01-13 123848

प्रियंका गांधी वाड्रा ने गुरुवार को यूपी चुनाव के लिए 125 प्रत्याशियों के टिकट का ऐलान किया।

 

कांग्रेस  (Congress) महासचिव और उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi) ने विधानसभा चुनाव (Up election 2022) के लिए गुरुवार को पहली सूची जारी की। उन्होंने 125 प्रत्याशियों की सूची जारी की जिसमें 50 महिलाएं हैं। उन्होंने कहा कि इस सूची में 40-40% महिलाएं और युवाओं को मौका दिया गया है। उन्होंने कहा कि पहली सूची में जो महिलाएं हैं उनमें से कुछ पत्रकार हैं, कुछ संघर्षशील महिलाएं हैं, सामाजिक कार्यकर्ता हैं, ऐसी भी महिलाएं हैं जिन्होंने बेहद अत्याचार झेला है।

कांग्रेस नेता ने प्रेस वार्ता में महिला उम्मीदवारों की सूची भी पढ़ी. प्रियंका ने बताया कि पार्टी ने नोएडा से पंखुड़ी पाठक, लखनऊ सेंट्रल से सदफ जाफर, रामपुर खास से आराधना मिश्रा, सलमान की खुर्शीद की पत्नी लुइस खुर्शीद को फर्रूखाबाद, अल्पना निषाद, दरियाबाद से चित्रा वर्मा, निर्मला चौधरी, रमा कश्यप, डुमरियागंज विधानसभा से कांती पांडेय, हर्रैया विधानसभा से लबोनी सिंह को टिकट दिया है। उन्होंने कहा कि उन्नाव में रेप पीड़िता की मां आशा सिंह को भी टिकट दिया गया है।

Also read:  कुवैत में कल कोरोना के 92 नए मामले सामने आए

उन्नाव रेप पीड़िता की मां को भी टिकट
प्रियंका ने कहा कि हमारी उन्नाव की प्रत्याशी उन्नाव गैंगरेप पीड़िता की मां हैं। हमने उनको मौका दिया है कि वे अपना संघर्ष जारी रखें. जिस सत्ता के ​जरिये उनकी बेटी के साथ अत्याचार हुआ, उनके परिवार को बर्बाद किया गया, वही सत्ता वे हासिल करें। उन्होंने कहा कि हमने सोनभद्र नरसंहार के पीड़ितों में से एक रामराज गोंड को भी टिकट दिया है। इसी तरह आशा बहनों ने कोरोना में बहुत काम किया, लेकिन उन्हें पीटा गया। उन्हीं में से एक पूनम पांडेय को शाहजहांपुर से टिकट दिया है।

लखनऊ सेंट्रल से प्रत्याशी के बारे में बताते हुए प्रियंका ने कहा कि सदफ जाफर ने सीएए-एनआरसी के समय बहुत संघर्ष किया था। सरकार ने उनका फोटो पोस्टर में छपवाकर उन्हें प्रताड़ित किया। मेरा संदेश है कि अगर आपके साथ अत्याचार हुआ तो आप अपने हक के लिए लड़ें। कांग्रेस ऐसी महिलाओं के साथ है।

प्रियंका ने कहा कि जो महिलाएं पहली बार चुनाव लड़ रही हैं, वे संघर्षशील और हिम्मती महिलाएं हैं। कांग्रेस पार्टी उन्हें पूरा सहयोग करेगी. उन्होंने कहा कि अपनी सूची से हम संदेश देना चाहते हैं कि राजनीति का असली मकसद सेवा है। यह काफी हद तक बदल चुका है, लेकिन हम इस मकसद को वापस लाना चाहते हैं।

Also read:  कतर ने कोविड -19 यात्रा लाल सूची अपडेट की

उन्होंने कहा कि हमारे पास बहुत सी महिलाओं के आवेदन आए, उनमें से कई ऐसी हैं जिन्हें कभी मौका नहीं मिला। कई ऐसी हैं जिन्होंने बहुत संघर्ष किया है और पहली बार चुनाव लड़ रही हैं। चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद नेताओं के पार्टी बदलने के सवाल पर प्रियंका ने कहा कि आया राम गया राम हर चुनाव में, हर पार्टी में होता है। मुझे नहीं लगता कि यह कोई ऐसी चीज है जिससे किसी पार्टी को घबराना चाहिए. अगर हमारे साथी जाते हैं तो हमें लगता है कि वे हमारे संघर्ष से पीछे हट रहे हैं।

मैंने जो प्रयास शुरू किए हैं वह जारी रखूंगी- प्रियंका
कांग्रेस नेता ने कहा कि हमारा लक्ष्य ये भी है कि हमारी भूमिका बढ़े, हमारी पार्टी मजबूत बने. हमने तय किया है कि हम नकरात्मक कैंपेन नहीं करेंगे। हम सकारात्मक मुद्दों पर चुनाव लड़ेंगे। महिलाओं, दलितों, युवाओं के मसलों पर चुनाव लड़ेंगे ताकि प्रदेश आगे बढ़े। प्रियंका ने सवाल किया कि युवाओं पर बात क्यों नहीं होती है? पीड़िताओं की बात क्यों नहीं होती है? बेरोजगारों के साथ हो रहे अन्याय की बात क्यों नहीं हो रही है? क्या वे किसी प्रतिशत में नहीं हैं? उन्होंने कहा हमने महिलाओं की बात शुरू की तो सभी पार्टियां घोषणाएं करने लगीं। भाजपा, सपा, आरएलडी, बसपा सबने घोषणाएं कीं। हमारी यही सफलता है कि अब महिलाओं को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता।

Also read:  ओमीक्रोन के खतरे के बावजूद हिमाचल में नहीं लगेंगी बंदिशें

प्रियंका ने कहा कि मैंने जो प्रयास शुरू किए हैं वह जारी रखूंगी, मैं चुनाव के बाद भी यूपी में ही रहूंगी। अगर हमारी पार्टी कहती है कि हमारी भूमिका ​कहीं और भी होनी चाहिए तो मैं वह भी करूंगी। पार्टी को मजबूत करने का हमारा प्रयास जारी रहेगा।