English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-09-29 171848

कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय महिला आयोग की पहली अध्यक्ष जयंती पटनायक का 90 वर्ष की उम्र में बुधवार की रात भुवनेश्वर के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। उनके परिवार में बेटा पृथ्वी बल्लव पटनायक और दो बेटियां हैं।उनके पति और ओडिशा के पूर्व मुख्यमंत्री और असम के पूर्व राज्यपाल जे.बी. पटनायक का 2015 में निधन हो गया था।

 

Also read:  हेल्थ वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स, गंभीर बीमारियों से ग्रसित वरिष्ठ नागरिकों को दी जाएगी कोरोना वैक्सीन की तीसरी डोज,यहां जानें सारी जानकारी

कांंग्रेस की वरिष्ठ नेता जयंती पटनायक तीन बार कटक और बेरहामपुर निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा के लिए चुनी गईं और एक बार राज्यसभा के लिए भी मनोनीत हुईं। वह अपने साहित्यिक कौशल के लिए भी जानी जाती थीं, जिन्होंने के.एम. मुंशी के कृष्णावतार का ऑडिया में अनुवाद किया था।

जयंती पटनायक के निधन पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, ओडिशा के राज्यपाल गणेशी लाल, राज्य के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, राज्य कांग्रेस अध्यक्ष शरत पटनायक और ओडिशा के कई अन्य नेताओं ने गहरा शोक व्यक्त किया है और साथ ही उनके राजनीतिक और सामाजिक कार्यों को यादव किया।

Also read:  भारत में कब आएगा ओमिक्रॉन का सब-वेरिएंट BA2, जानें कितना खतरनाकल है BA2

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने शोक व्यक्त करते हुए एक ट्वीट में कहा, “ओडिशा के पूर्व सीएम जेबी पटनायक की पत्नी जयंती पटनायक के निधन के बारे में जानकर दुख हुआ। वह एक पूर्व सांसद और प्रख्यात सामाजिक कार्यकर्ता भी थीं। अपनी सेवा और समर्पण के माध्यम से राज्य के लोगों का उन्हें प्यार मिला। उनके परिवार, दोस्तों और शुभचिंतकों के प्रति मेरी संवेदना।”

Also read:  कोरोना की रफ्तार ने फिर बढ़ाई टेंशन, पंजाब के जालंधर में नाइट कर्फ्यू